महात्मा गाँधी से जुड़े ये तथ्य चौकाने वाले हैं

Nanhe Sipahi | Sep 04, 2017 11:09 PM


News Image
महात्मा गांधी अपने आदर्शों और अहिंसा के संदेश के चलते दुनिया भर में आज भी एक महान व्यक्ति के तौर पर याद किये जाते हैं. गांधी जी के जीवन से जुड़े कई रोचक पहलू हैं जिसे आप शायद ही जानते हों.

गांधी जी को ना सिर्फ भारत बल्कि दुनिया में भी विशेष ख्याति प्राप्त है. इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि दुनिया के महान वैज्ञानिकों में शुमार आइंस्टीन ने कहा था, कि कुछ सालों बाद लोग इस बात पर यकीन नहीं करेंगे कि महात्मा गांधी जैसा व्यक्ति कभी भी इस धरती पर हाड़मांस का शरीर लेकर चलता था.




गांधी जी ने देश की आज़ादी के लिए अपना पूरा जीवन दे दिया था लेकिन उन्होंने खुद कभी भी किसी लाभ के पद या किसी अन्य पद को लेने से इनकार कर दिया था. आज हम आपको गांधी जी के बारे में जुड़े कुछ ऐसे तथ्यों से रूबरू करायेंगे जिनसे आप शायद ही अवगत हों।

1. महात्मा गाँधी देश के एक ऐसे रत्न है जिन्हे कभी भारत रत्न नहीं मिला. बल्कि उनके नाम पर राजनीत करने वाले भारत रत्न लेते चले गए. 

2. अपनी मौत से एक दिन पहले महात्मा गांधी कांग्रेस पार्टी को भंग करने पर विचार कर रहे थे।


3. महात्मा गांधी हर रोज 18 किलोमीटर पैदल चलते थे। इस लिहाज से गांधी जी पुरी दुनिया के दो चक्कर लगा सकते हैं।

4. गांधी जी के नाम से भारत में 53 मुख्य मार्ग हैं जबकि विदेशों में 48 सड़के हैं।

5. स्वतंत्रता दिवस की रात नेहरू जी का भाषण सुनने के लिए गांधी जी मौजूद नहीं थे, उस दिन गांधी जी उपवास पर थे।

6. गांधी जी के कपड़ों सहित उनकी कई वस्तुएं आज भी मदुरई के म्युजियम में सुरक्षित है.

7. महात्मां गांधी की वजह से चार कॉटिनेंट और 12 देशों में सिविल राइट मूवमेंट शुरु हुआ था।

8. जिस अंग्रेजी सरकार के खिलाफ गांधीजी ने आंदोलन किया उसी अंग्रेजी सरकार ने महात्मा गांधी की मौत के 21 साल बाद उनके सम्मान में स्टांप जारी किया था.

9. गांधी जी ने दक्ष‍िण अफ्रीका प्रवास के दौरान 1899 के एंग्लो बोएर युद्ध में स्वास्थ्यकर्मी के तौर पर मदद की थी. वहीं, उन्होंने युद्ध की वि‍भिषिका देखी थी और अहिंसा के रास्ते पर चल पड़े थे.

10. महात्मा गांधी ने आइंस्टीन, हिटलर, टॉलस्टॉय सहित कई विख्यात हस्तियों से मुलाकात की थी।

11. गांधी जी ने डरबन प्रिटोरिया और जॉहिनसबर्ग में Football Club स्थापित करने में मदद की थी, जिनके नाम पैसिव रेसिस्टर्स सॉकर क्लब है.

12. दक्षिण अफ्रीका में महात्मा गांधी को 15 हजार डॉलर मिलते थे जो आजके तकरीबन 10 लाख रुपए के बराबर है।

13. यह बात भले ही आपको अचरज में डाले लेकिन सच है कि शांति का नोबेल पुरस्कार गांधी जी को अब तक नहीं मिला है. हालांकि उन्हें कुल 5 बार अभी तक इसके लिए नॉमिनेट किया गया है.

14. मात्र 13 साल की उम्र में गांधी जी की शादी उनसे एक साल बड़ी कस्तूरबा गांधी के साथ हुई. शादी से संबंधित प्रथाओं को पूरा करने में एक साल लग गया और इसी कारण से वह एक साल तक स्कूल नहीं जा पाए थे.

15. गाँधी जी हिटलर को अक्सर पत्र लिखते थे और उनका समर्थन भी करते थे.

16. गाँधी जी ने जब अपनी कानून की पढ़ाई ख़त्म कर इंग्लैंड में अपनी वकालत शुरू की थी तब वह पूरी तरह असफल हुए, यहाँ तक की उनके पहले केस में उनकी टाँगे कांप रही थी और वह पूरी बहस किये बिना ही बैठ गए थे और केस हार गए.

17. एक बार गाँधी जी का जूता ट्रेन में से नीचे गिर गया, उन्होंने फ़ौरन ही दूसरा जूता निकाल कर चलती ट्रेन से नीचे फैक दिया. पूछने पर बताया कि एक जूता ना तो मेरे काम आएगा और ना ही उसके जिसे मेरा दूसरा जूता मिलेगा, कम से कम उसके काम तो आयेगा जिसे मेरे दोनों जूते मिलेंगे.

18. आपको यकीन नहीं होंगा मगर गांधी जी के बेटे ने उन्हें छोड़ दिया था और इस्लाम धर्म भी अपना लिया था.

19. सन् 1930 में उन्हें अमेरिका की टाइम मैगजीन ने Man of the year पुरुस्कार से नवाजा था.

20. महात्मा गांधी जन्म से बोल्ड और बहादुर नेता नही थे, बल्कि उन्होंने अपनी आत्म कथा में लिखा है कि बचपन में वो इतने शर्मीले थे वो स्कूल से भाग जाते थे ताकि उन्हें किसी से बात नहीं करनी पड़े.

21. आपको शायद ही पता होगा लेकिन यह सच है कि गांधी जी अपनी पत्नी से अक्सर मारपीट करते थे. उन्होंने दशकों तक उनके साथ शारीरिक संबंध भी नहीं रखे.

22. संयुक्त राष्ट्र ने गांधी जी के जन्म दिन 2 अक्टूबर को विश्व अहिंसा दिवस यानि world non-violence day घोषित किया है.

24. गाँधी जी चाहते तो भगत सिंह की फांसी रोक सकते थे पर कई लोगो का मानना था कि गाँधी जी ने भगत सिंह के केस पर कभी गंभीरता दिखाई ही नही.

25. महात्मा गांधी अपने पूरे जीवन में कभी अमेरिका नही गये, और ना ही कभी एरोप्लेन में बैठे.

26. गाँधी जी को अपनी फोटो खिंचवाना बिलकुल पसंद नही था लेकिन आजादी की लड़ाई के दौरान वो अकेले शख्स थे जिनकी सबसे ज़्यादा फोटो ली गई थी.

27. गाँधी जी को सम्मान देने के लिए एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स गोल चश्मा पहनते थे.

28. गांधी जी अपने नकली दांत अपनी धोती में बाँध कर रखते थे। वह उन्हें केवल खाना खाते समय ही लगाया करते थे.

29. सन 1931 में गाँधी जी ने इंग्लैंड यात्रा के दौरान पहली बार अमेरिका के लिए भाषण दिया. रेडियो पर उनके पहले शब्द थे क्या मुझे इस माइक्रोफोन के अंदर बोलना पड़ेगा यानि Do i have to speak into this thing.

30. 1933 में गाँधी जी ने ‘हरिजन’ नाम का एक अखबार शुरु किया था.

31. महात्मा गांधी को महात्मा की उपाधि रविंद्र नाथ टैगोर ने दी थी और रविंद्र नाथ को गुरूदेव की उपाधि महात्मा गांधी ने दी थी.

32. भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात कुछ पत्रकार गाँधी जी के पास आए और उनसे अंग्रेजी में बात करने लगे. मगर गाँधी जी ने सभी को रोका और कहा कि, “मेरा देश अब स्वतंत्र हो गया है, अब मैं हमारी हिन्दी भाषा ही बोलूँगा.

33. 1999 में गांधी जी को Times मैगज़ीन द्वारा Albert Einstein के बाद 19वीं सदी का दूसरा सबसे प्रभावशाली व्यक्ति चुना गया और वे इसके हक़दार भी थे.

34. गांधी जी की मृत्यु पर पंडित नेहरु जी ने रेडियो द्वारा राष्ट्र को संबोधित किया और कहा की “राष्ट्रपिता अब नहीं रहे“. तब जाकर पुरे देश में मालुम पड़ा की महात्मा गांधी नहीं रहे.

35. गांधी जी की शवयात्रा को आजाद भारत की सबसे बड़ी शवयात्रा कहा गया था. करीब दस लाख लोग साथ चल रहे थे और करीब 15 लाख लोग रास्ते में खड़े थे. यहां तक की लोग खंभो पर भी चढ़ गए थे.

36. जब गांधी जी को गोली मार दी गई थी उस समय उन्होंने जो कपडे पहने थे वह कपडे आज भी गांधी संग्रहालय में सुरक्षित रखे हुए है.

तो ये थे Mahatma Gandhi Amazing facts. 


News Image

वो शख्स जिससे खौफ खाते थे अंग्रेज, जो हमेशा रहा ‘आजाद’, उसका नाम था 'चंद्रशेखर'

नई दिल्‍ली (स्‍पेशल डेस्‍क)। 'अंग्रेज कभी मुझे जिंदा नहीं पकड़ सकेंगे'। यह कहना था शहीद चंद्रशेखर आजाद का। वो आजाद ...


News Image

हैप्पी बड्डे दूरदर्शन जी..

गर्मियों के छुट्टी में हम ''छुट्टी छुट्टी" देख कर बड़े हुए है, शक्तिमान और तहकीकात देखने के लिए घर में ...


News Image

बिहार के बारे क्या ये जानते हैं आप

बिहार की राजधानी पटना की बहुत सी बातें तो विश्व विख्यात हुई वही कुछ ऐसे बातें है तो अभी भी ...


News Image

तो इस लिए महत्मा गाँधी को नहीं दिया गया भारत रत्न और नोबेल पुरष्कार.

अगर आपको ये पता चले की स्वतंत्र भारत के इतिहास में महात्मा गाँधी के नाम पर सड़कें, विश्वविद्यालय, सरकारी भवन ...


News Image

जिसने आडवाणी को रोका वो है आज मोदी का विशेष

बिहार के भूतपूर्व गृह सचिव अफजल अमानुल्ला ने एक इंटरव्यू में कहा था कि 1990 के दशक में लालकृष्ण आडवाणी ...