boman the duffer की कहानी अद्भुत है

Kirti Mishra | Aug 06, 2017 08:08 AM


News Image
मुझे नहीं लगता की मुझे इस नाम से परिचित करवाने की जरुरत है आपको । ये फ़िल्मी जगत का  वो नाम है जिसने बहुत ही काम समय में काफी नाम कमाया ।आज लोग न मुन्ना भाई MBBS के डॉ अस्थाना को न जाने ऐसा संभव नहीं और 3 idiots के वायरस की तो बात ही निराली है ,जब ये मूवी रिलीज़ हुए न जाने कितने ही लोगो ने वायरस की तरह दोनों हाथों  से लिखने की कोशिश की होगी, हाँ हंसी आ रही होगी आपको ,मुझे भी आयी थी ,पर इसे कहते हैं dedication किसी भी चरित्र को इतनी ईमानदारी के साथ निभाना की दर्शकों को ऐसा लगे जैसे वो उन ही में से एक है और एक अच्छा कलाकार वही हो सकता है जो खुद एक बहुत ही संजीदा और अच्छा इंसान हो ।

बोमन ईरानी पे ये कहावत बहुत ही अच्छी तरह चरितार्थ होती है की अपने सपनों को पूरा करने में कभी देर नहीं होती, सपनों को पूरा करने की कोई उम्र नहीं होती और न ही सफल होने की कोई उम्र होती है | बस जरुरत है उन सपनो को पूरा करने के लिए मजबूत होसलों की | बोमन ईरानी इसकी सबसे बड़ी मिसाल हैं ।



बोमन ईरानी का जन्म 2 दिसंबर 1959, मुंबई में ईरानी परिवार में हुआ था ।उन्होंने अपनी पढाई सत. मेरी स्कूल से की और मीठीबाई कॉलेज मुंबई से स्नातक की डिग्री ली । हिंदी सिनेमा में आने से पहले बोमन ने थिएटर में काफी वक्त बिताया | उनका सबसे सफल नाटक आई एम् नॉट बाजिराओ रहा जिसका कई बार प्रदर्शन किया गया । ईरानी अब तक 40 से ज्यादानाटकों में काम कर चुके हैं । उनकी शादी जेनोबिआ से हुई है और उनके दो बच्चे हैं जिसका नाम दानेश और कयोज ईरानी ।

बोमन ईरानी के जीवन और उनके स्ट्रगल की कहानी 

एक ऐसा शख्स जिसने पपरिस्थितियों से कभी हार नहीं मानी | न सिर्फ अपनी जिम्मेवारियां निभाई बल्कि अपने सपनों को भी पूरा किया । पर क्या वो इतना आसान था - नहीं | बोमन ने अपनी जीवन में कई तरह के मुसीबतों का सामना किया ।आइये जानते हैं बोमन की जिंदगी के कुछ अनछुए पल ....

बोमन ईरानी अपनी स्कूल के दिनों से ही एक्टिंग के लिए काफी पैशनेट थे। हंसराज सीढिया ने उन्हें 1981 से 1983 तक trained किया था । वो हमेशा ब्रिटिश थेटर को ही प्रेफर करते थे अपने जीवन के 14 साल बोमन ने थिएटर को दिए । बोमन जब छोटे थे तब उनके speech की प्रॉब्लम रही वो बताते हैं की वो actully में अपने कैरेक्टर वायरस जैसे बात करते थे । लोग बोमन को boman the duffer कह कर भी बुलाते थे । इसलिए उन्होंने वेटर का कोर्स किया और मुंबई के the tajmahal palace hotel में वेटर की नौकरी करने लगे । बोमन बताते हैं की उन्होंने वहां दो साल काम किया । बोमन कहते हैं की मेरी नानी मुझे कहती थी की 'अगर गली का मोची भी बनो ,तो भी सबसे अच्छा मोची बनो '।



बाद में जब उनकी माँ का एक्सीडेंट हो गया तो अपने फॅमिले बेकरी शॉप पे बैठने लगे थे ,वहां उन्होंने कुछ लगभग 14 साल काम किया । क्या आपको लगता है जब आप अपने अंदर की क़ाबलियत को जानते हैं की आप कुछ और कर सकते हैं, आप असल में वो नहीं हैं जो बन के आप रह रहें हैं ।

बोमन बताते हैं की आप सोच सकते हैं की १४ साल उस बेकरी शॉप में बैठ के मैं बस यह सोचा करता था की मैं  कुछ और के लिए आया हूँ मैं एक creative इंसान हूँ । उनकी माँ उन्हें १२ साल की उम्र से ही फिल्मों की तरफ incourage करती थीं । इसलिए फिल्मों को ले कर वो बहुत ही पैशनेट थे | उन्होंने सोचा की 32 की उम्र में उन्हें फिल्मों में कोई भी काम नहीं देगा । इसलिए उन्होंने वेटर की नौकरी शुरू की ताकि वो उन पैसे से कैमरा ले सके और फोटोग्राफर बन सकें ।शुरुआत में वो बेकरी के साथ फोटोग्राफी भी करते थे | उस समय वो 25 रु पर कॉपी लेते थे । धीरे धीरे उनकी क़ाबलियत रंग दिखने लगी और उन्होंने sports फोटोफ्रॉफी शुरू कर दी | मेहनत रंग लाये जब उन्हें फर्स्ट ऑफिसियल चांस मिला वर्ल्ड कप ऑफ़ बॉक्सिंग में ।

बोमन बताते हैं जब मैं प्रोफेशनल फोटोग्राफर था शयाम्यक डावक ने उनसे एक एक्ट करवाया था ..एक्ट तो बहुत बुरी तरह फ्लॉप हो गया पर बोमन की  बातेंहोने लगी । उनकी पहली फिल्म विधु विनोद चोपड़ा के साथ एक एक्सपेरिमेंटल फिल्म थी । पहले तो बोमन ने मुन्ना भाई mbbs के लिए मना कर दिया ,फिर बाद में उन्होंने हाँ कहा और बाकि जो इतिहास रचा गया वो तो आपके सामने है मुन्ना भाई को नेशनल अवार्ड से नवाजा गया । फिर क्या था दिन पे दिन उनके हाथों में जो भी फिल्में मिली उन किरदारों में बोमन ने कितनी बखूबी से काम किया ये तो आपके सामने हैं ।



बोमन ईरानी एक ऐसे कलाकार हैं जिन्होंने 44 साल की उम्र में अपने सपनो को पूरा कर के दिखाया और लोगों को भी बताया की अपने सपनों को पूरा करने की कोई उम्र नहीं होती । बोमन कहते हैं की  लोग कहते हैं ' किस्मत में जो लिखा होता है वही मिलता है , हाँ ये सच है | मैं भी किस्मत में विस्वास करता हूँ पर मैं ये भी मानता हूँ की की हर किसी में ये क़ाबलियत होती है की वो अपनी किस्मत खुद बनाये ।उनके अनुसार hard work से 80 से 90 प्रतिशत अपने मुकाम तक पंहुचा जा सकता है सिर्फ 10 प्रतिशत किस्मत पे निर्भर करता है ।ये थी बोमन ईरानी की जीवन की ऐसे किस्से जो हमें हमेशा प्रेरणा देते रहेंगे ।


News Image

खुलासा : 18-19 साल की उम्र में इन शर्तों के साथ काम करती थी प्रियंका चोपड़ा

बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा हॉलीवुड में अपनी कामयाबी के झंडे गाड़ रही हैं। आज प्रिंयका बॉलीवुड की सबसे ज्यादा फीस ...


News Image

खतरों की खिलाड़ी! शार्क के साथ तैरती है यह लड़की

हॉलीवुड फिल्‍मों में तो अक्‍सर आपने लड़कियों को शार्क से पानी में लड़ते हुए देखा होगा पर हम आपको आज ...


News Image

आ रहा है iPhone ८, ये फीचर्स के साथ नए युग में स्वागत है

एप्पल यूज़र्स के लिए खुशखबरी लेकर आ रहा है एप्पल. एप्पल अपना नया iPhone - 8 लांच करने जा रहा ...


News Image

25 INTERESTING FACTS ON INDIA THAT YOU HAD NO IDEA ABOUT

25 interesting facts on India that you don’t know! Spare your 2 minutes to read about our great Nation! ...


News Image

राजेश खन्ना के स्टारडम को ख़तम कर दिया अमिताभ ने

ये कहानी है दो ऐसे महानायकों के संबंधों की जिनमे हमेशा खिंचाव रहा ।राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन दोनों फिल्म ...


News Image

योग सिर्फ हिन्दुओं का नहीं

आज हर व्यक्ति अपने मानसिक स्वास्थ और अपने शारीरिक स्वास्थ को ले कर काफी सजग हो गया है. हर व्यक्ति ...