ये भ्रष्टाचार की लड़ाई है या कोई और बात है

Nanhe Sipahi | Jul 12, 2017 12:07 PM


News Image

बिहार में बहार है, लगता है बिहार में इस बार सावन जम के बरसेगा. वैसे बारिश बुझाने का काम तो लगता है नहीं ही कर पाएगी. बिहार के महागठबंधन की गाठें खुलनी शुरू हो गयी हैं. नितीश कुमार ने भले ही अप्रत्यक्ष रूप से लालू जी के सुपुत्र का इस्तीफा मांग लिया हो पर राष्ट्रीय जनता दल ने भी बता दिया है की हम फेविकोल लगा के बैठे हैं. ऐसे ही नहीं उठेंगे.


वैसे ये बिहार के इतिहास का अपनी तरह का ये पहला मामला होगा जब किसी व्यक्ति पर चार्टशीट हो गयी हो और उस व्यक्ति ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा न दिया हो. उधर नितीश जी की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने भी साफ़ कर दिया है की भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं होगा. बिहार में सियासी पारा पुरे उफान पर है और इस उफान और तूफ़ान में भाजपा कमल खिलाने के लिए अपने लाव-लश्कर के साथ गोते लगा रही है. नितीश जी ने जब मौन व्रत तोडा तो महागठबंध की कमर तोड़ दी है. ४ दिनों के अल्टीमेटम देते हुए मुख्यमंत्री जी बोले है की जनता के बीच जाइये और तथ्यों को रखिये. अब जनता के बीच जाने के मतलब क्या है इसका चिंतन बड़े बड़े पंडित कर रहे हैं. आम तौर पर हिंदुस्तान में जनता के बीच जाने के मतलब चुनाव से जोड़ा जाता है. अगर इस मतलब को आगे लेकर बढ़ें तो हो सकता है की महागठबंधन आखिरी सांसे ले रहा है और और जनता के बीच जाने की तैयारी शुरू होने वाली है.



नितीश की छवि को चोट पंहुचा रहा है महागठबंधन

वैसे गौर करने वाली बात ये हैं नितीश जी की छवि ही उनकी पूंजी है और जदयू ने ये निर्णय लिया है की नितीश जी की छवि बचाने का समय आ गया है. वस्तुतः ऐसे ही भ्रष्टाचार के मामलो में राज्य के ५ मंत्री पहले भी इस्तीफा दे चुके हैं और अगर इसे पैमाना मन जाए तो समय की मांग यही है की तेजस्वी यादव को भी इस्तीफा देना चाहिए भले ही उनके पिता का नाम लालू प्रसाद यादव ही क्यों न हो. वैसे लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले पर अपना बयान देने रांची में थे और देर शाम बिहार लौटने के बाद उन्होंने अपना फरमान सुना दिया की तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे.

इस्तीफा ही मुद्दा है ?

सबसे बड़ा सवाल ये हैं की क्या तेजस्वी यादव का इस्तीफा ही मुद्दा है या जदयू इस बहाने दूसरे तरह की राजनित साध रही है. समय समय पर नितीश जी ने लालू जी को सन्देश दिया है कि वही रिंग मास्टर हैं और कमान उनके हाँथ में ही होनी चाहिए वही लालू जी अपने जनरेशन नेक्स्ट को आगे करने की पुरज़ोर कोशिश कर रहे हैं. गौर से देखें तो हम पाएंगे की ये पूरी लड़ाई शक्ति और वर्चस्वा की है. नितीश जी ये साफ़ सन्देश देना चाहते हैं की मैं ही इस प्रदेश का मुखिया हूँ और मैं भ्रष्टाचार पर कोई समझौता नहीं करूँगा. वही लालू यादव जो पहले ही दवाब में है और उनका परिवार पहले ही मुसीबत में है सतरंज की इस बिसात पर सह और मात के फ़िराक में है.


कांग्रेस का डर, भाजपा भी पीछे नहीं -

भाजपा के कुछ लीडरों ने इस बीच बयान दिए और नितीश को अपने पाले में लेन की जुगत लगा दी है. भाजपा के सारे घटक दल और जदयू अगर मिल जाये तो भी नितीश कुमार अपनी सरकार बचा लेंगे और बहुमत के जरुरी आंकड़े से इनकी संख्या ९ ज्यादा ही रहेगी. वैसे फ़िलहाल अभी इसके आसार कम ही है क्यों की कांग्रेस महागठबंधन को बचाने का भरसक प्रयास करेगी. कारण साफ़ है, मोदी के विजय रथ को किसी ने थामा तो दिल्ली में केजरीवाल, बंगाल में ममता और बिहार में नितीश-लालू की जोड़ी ने. दिल्ली के नगरपालिका चुनाव में अरविन्द की कमजोरी और फिर आप का पंजाब का प्रदर्शन कांग्रेस के कान खड़े कर रहा है. ममता भी बंगाल के दंगो के बाद बैकफुट पर है और इधर बिहार में महागठबंधन में दरारें दिख रही है. ऐसे में कांग्रेस नहीं चाहेगी की नितीश भाजपा के साथ जाए ऐसा होने पर २०१९ के आम चुनावो के लिए नरेंद्र मोदी को बड़ा एडवांटेज मिले.


News Image

क्या शिव सेना ने Self Goal किया है ?

अभी तक की जो परिस्थिति है उसमें शिव सेना ना घर की है और ना घाट की। लेकिन राजनीति में ...


News Image

एक वक्त था जब एक पाकिस्तानी जासूस के लिए हिंदुस्तानी जनता ने लगाए थे ज़िंदाबाद के नारे

पाकिस्तानी जासूस – ये कहानी है बीकानेर की, जहां के लोगों के बीच एक दिन अचानक से किसी अंजान की ...


News Image

चीन में शादी के लिए दूसरे एशियाई देशों से अपहरण कर लाई जा रही हैं लड़कियां

नई दिल्ली | आए दिन भारत के पूर्वी राज्यों खासकर बिहार से ऐसी खबरें आती हैं कि किसी शादी-विवाह में ...


News Image

विराट-अनुष्‍का की शादी थी 'नकली' अब यहां दोबारा करनी होगी, इस दस्‍तावेज से खुला राज

विराट कोहली और अनुष्‍का शर्मा की शादी को लेकर नया खुलासा हुआ है। खबरों की मानें तो दोनों को दोबारा ...


News Image

जब भगवान शिव की हुई जलती लकड़ी से पिटाई

देवों में देव महादेव की कोई जलती लकड़ी से पिटाई करे ऐसा कोई सोच भी नहीं सकता लेकिन, यह बात ...


News Image

गुजरात चुनावो के बीच झूलता कश्मीर

2014 के लोकसभा चुनावों से पहले नरेंद्र मोदी ने कई नारे उछाले थे, उनमें से एक नारा था — “मिनिमम ...