पीएम मोदी और सीएम नितीश की ये मुलाकात कुछ तो गुल खिलाएगी

Nanhe Sipahi | Jul 22, 2017 02:07 PM


News Image
बिहार की सियासत भी अलग अलग रंग दिखा रही है. कभी दोस्त दुश्मन बन जाते हैं और कभी दुश्मन दोस्त. अब 2013 ही ले लीजिये जिस नरेंद्र मोदी के नाम पर नितीश कुछ विफर पड़े थे अपने रास्ते NDA से जुदा कर लिया था, एक मंच पर साथ खड़े होना पसंद नहीं था. एक तस्वीर में साथ दिखना पसंद नहीं था वही नितीश कुमार आज नरेंद्र मोदी के साथ आज रात डिनर करने वाले हैं.

कुछ दिनों पहले खबर आयी की सोनिया गाँधी ने महागठबधन के घटको से बात की उसके बाद तेजस्वी यादव नितीश जी से मिलने उनके पास पहुंचे और मामला शांत हो गया. पर कल जब जदयू के अलोक ने जिस प्रकार कहा कि लालू जी की राजद उनके सब्र का इम्तेहान न ले इससे ये हवा फिर से तेज़ हो गयी की कुछ तो होने वाला है. फिर नितीश का दिल्ली पहुंचना और राहुल और मोदी दोनों से मिलना इस खबर पर तड़का लगा रहा है. वैसे नितीश जी वर्त्तमान राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी के सम्मान में रखे भोज में शिरकत करने दिल्ली पहुंचे हैं पर मोदी जी के साथ होने वाले डिनर में क्या गरमा गरम परोसा जाएगा ये चर्चा का विषय जरूर है. नीतीश की इन नेताओं से मुलाकात पर सबकी नजरें होंगी। दरअसल, आरजेडी से टकराव के बीच नीतीश और बीजेपी की कथित नजदीकियों को लेकर भी अटकलें जारी हैं।



नीतीश राज्य में बड़े राजनीतिक संकट का सामना भी कर रहे हैं। भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे आरजेडी सुप्रीमो लालू के बेटे और डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव इस्तीफा न देने पर अड़े हुए हैं। वहीं, नीतीश और जेडीयू खेमा तेजस्वी का इस्तीफा लेने के लिए अड़ा हुआ है। इस तनातनी के बीच, जेडीयू और आरजेडी नेताओं के बीच जुबानी जंग जारी है। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस मुद्दे पर नीतीश और लालू के संपर्क में थीं, ताकि महागठबंधन को अटूट रखा जा सके। राजनीतिक जानकार मानते हैं कि महागठबंधन में किसी टूट का सीधा फायदा बीजेपी को 2019 के आम चुनाव में होगा।

वैसे खुल कर तो नहीं पर बीजेपी के बड़े नेता दबी ज़ुबान में नितीश के दिल में सेंध मार रहे हैं. नितीश कुमार भी इस समय खासे दबाब में है. लालू परिवार पर लगे भरष्टाचार के आरोप ख़तम होने का नाम नहीं ले रहे. जदयू का खेमा तेजस्वी के इस्तीफे से कुछ कम नहीं वाले सिद्धांत पर अड़ा हुआ है वही राजद ने भी साफ़ कर दिया है की इस्तीफा तो नहीं होने वाला. ऐसे में सियासी पारा एक बार फिर ऊपर जाने की उम्मीद रखिये. अब देखना ये है की मोदी और नितीश की मुलाकात क्या गुल खिलाती है.



वैसे नितीश BJP के साथ इस लिए आये थे क्यों कि लालू यादव पर भ्रष्टाचार के बड़े आरोप थे और बिहार में लालू को रोकने के लिए २ बड़ी शक्तियों का एक होना बेहद जरुरी था. फिर मोदी को रोकने के लिए २ बड़ी शक्तियां साथ आयी महागठबंधन के रूप में. पर अब लगता नहीं की ये महागठबंधन अपना कार्यकाल पूरा कर पाएगी. इसकी वजह कुछ भी हो, हो सकता है की उसकी कई वजहें भी हो. पर जदयू के लिए ये नाक और छवि का प्रश्न बन गया है.


News Image

क्या शिव सेना ने Self Goal किया है ?

अभी तक की जो परिस्थिति है उसमें शिव सेना ना घर की है और ना घाट की। लेकिन राजनीति में ...


News Image

एक वक्त था जब एक पाकिस्तानी जासूस के लिए हिंदुस्तानी जनता ने लगाए थे ज़िंदाबाद के नारे

पाकिस्तानी जासूस – ये कहानी है बीकानेर की, जहां के लोगों के बीच एक दिन अचानक से किसी अंजान की ...


News Image

चीन में शादी के लिए दूसरे एशियाई देशों से अपहरण कर लाई जा रही हैं लड़कियां

नई दिल्ली | आए दिन भारत के पूर्वी राज्यों खासकर बिहार से ऐसी खबरें आती हैं कि किसी शादी-विवाह में ...


News Image

विराट-अनुष्‍का की शादी थी 'नकली' अब यहां दोबारा करनी होगी, इस दस्‍तावेज से खुला राज

विराट कोहली और अनुष्‍का शर्मा की शादी को लेकर नया खुलासा हुआ है। खबरों की मानें तो दोनों को दोबारा ...


News Image

जब भगवान शिव की हुई जलती लकड़ी से पिटाई

देवों में देव महादेव की कोई जलती लकड़ी से पिटाई करे ऐसा कोई सोच भी नहीं सकता लेकिन, यह बात ...


News Image

गुजरात चुनावो के बीच झूलता कश्मीर

2014 के लोकसभा चुनावों से पहले नरेंद्र मोदी ने कई नारे उछाले थे, उनमें से एक नारा था — “मिनिमम ...